CSDS के संजय कुमार का दावा लोकसभा चुनाव में बीजेपी-NDA को होगा नुकसान, फिर भी बन जाएगी सरकार, समझिए कैसे? 

News Tak Desk

ADVERTISEMENT

newstak
social share
google news

Sanjay Kumar on Election 2024: लोकसभा का चुनाव अपने अंतिम दौर में चल रहा है. सातवें और आखिरी चरण का मतदान 1 जून को होना है. चुनाव के नतीजे 4 जून को आएंगे. सभी राजनैतिक दल अपनी-अपनी जीत के दावे कर रहे है. देश भर के लोग भी चुनाव के नतीजों का बेसब्री से इंतजार कर रहे है. लोगों की इसी उत्सुकता को ध्यान में रखते हुए न्यूजतक ने चुनाव के नतीजों से पहले संभावित परिणाम को समझने के लिए CSDS के को-डायरेक्टर संजय कुमार से विस्तार से बातचीत की है. संजय कुमार ने इस चर्चा में NDA-INDIA गठबंधन को कितने सीटों का फायदा या नुकसान होगा? कांग्रेस को कितनी सीटें मिलेंगी? किसकी सरकार बन सकती है? इन सवालों पर विस्तार से बातचीत की है. आइए आपको बताते हैं संजय कुमार के मुताबिक बीजेपी या कांग्रेस किसे फायदा और किसे हो सकता है नुकसान. 

'पहले की अपेक्षा घट रहा है बीजेपी का वोट प्रतिशत'   

संजय कुमार ने कहा कि, चुनाव से पहले CSDS के ओपिनियन पोल में बीजेपी को 46 फीसदी वोट मिलता हुआ दिख रहा था. इसमें 40 फीसदी बीजेपी को और 6 फीसदी वोट उसके गठबंधन के साथियों को मिलने की उम्मीद थी. इसमें रिलक्टेंट बीजेपी वोटर एक बड़ी भूमिका निभा रहे थे. रिलक्टेंट बीजेपी वोटर 12 से 14 फीसदी है. बता दें कि, रिलक्टेंट वोटर वो होते है जो विपक्ष कमजोर होने के कारण और अच्छा विकल्प मौजूद नहीं होने के कारण मजबूरी में बीजेपी का समर्थन कर रहे है. वो आगे कहते है कि, हालांकि छठे चरण की वोटिंग के बाद बीजेपी का वोट प्रतिशत घटता हुआ नजर आ रहा है. संजय कुमार कहते हैं कि, रिलक्टेंट बीजेपी वोटर में शिफ्ट देखने को मिल रहा है. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि, बीजेपी का वोट प्रतिशत 37 फीसदी से कम नहीं होगा. 

'मोदी लहर नहीं है, बस छोटी-छोटी तरंगे है': संजय कुमार 

संजय कुमार बताते हैं कि लोकसभा चुनाव में राम मंदिर और आर्टिकल 370 का मुद्दा बीजेपी के लिए काम नहीं किया. साल 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में राष्ट्रवाद की लहर देखने को मिली थी. वो कहते है कि, 2024 के चुनाव में कोई लहर नहीं है. पिछला लोकसभा चुनाव राष्ट्रीय चुनाव था और 2024 का चुनाव राष्ट्रीय चुनाव नहीं है. न बीजेपी के पक्ष में लहर है न ही बीजेपी के खिलाफ लहर है. 'मोदी लहर नहीं है, बीजेपी की लहर नहीं हैं, छोटी-छोटी तरंगे है'. किसी राज्य में बीजेपी की तरंग है तो पड़ोसी राज्य में विपक्ष की तरंग है. दोनो तरंगे मिलकर एक दूसरे को काट रही है. 

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

'उत्तर भारत में कांग्रेस की वोटों और सीटों दोनों में होगा इजाफा'

संजय कुमार ने बताया कि, मेरा ऐसा अनुमान है कि, उत्तर भारत में कई सीटें है जहां बीजेपी को नुकसान होता दिख रहा है. हालांकि वो ये भी कहते है कि, इस नुकसान की भरपाई कुछ हद तक दक्षिण के राज्यों से हो जाएगी. उत्तर भारत में बीजेपी की सीटें कम होगी, वहीं कांग्रेस को सीटों का फायदा मिलता हुआ दिख रहा है. कांग्रेस का वोट और सीटें दोनों का फायदा मिलेगा. कांग्रेस को 10-12 सीटों का फायदा हो सकता है. बीजेपी की सीट घटने का एक बड़ा कारण यह है कि, बीजेपी अलायंस में पार्टियां कम हो गई है. NDA में जदयू के अलावा कोई बड़ा दल नहीं है और जदयू अपने ढ़लान पर है. इस बार जदयू भी अपना 2019 का प्रदर्शन दोहरा नहीं पाएगी. वहीं कांग्रेस ने अनेकों क्षेत्रीय दलों के साथ गठजोड़ करके अपने अलायंस के कुनबे को बढ़ाया है. कांग्रेस को INDIA अलायंस का फायदा मिल रहा है. 

संजय कुमार के मुताबिक, देश के पूर्वी तटीय राज्य जैसे पश्चिम बंगाल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु और केरल में बीजेपी को फायदा होगा. बीजेपी के वोट प्रतिशत में इजाफा देखने को मिलेगा हालांकि वोटों का सीटों में बदलना मुश्किल है. वो कहते है, तमिलनाडु में पहली बार त्रिकोणीय लड़ाई देखने को मिल रही है जिसकी वजह से प्रदेश में बीजेपी को 3-4 सीटों का फायदा मिल सकता है. बीजेपी ने आंध्र प्रदेश में तेलगुदेशम पार्टी के साथ गठबंधन करने का फायदा मिल सकता है. 

संजय कुमार का राज्यवार सीटों का आकलंन 

- यूपी में सपा और कांग्रेस की सीटें बढ़ेगी वहीं बीजेपी अभी जहां है वहीं रहेगी. बीजेपी को कुछ खास घाटा नहीं होगा.  

ADVERTISEMENT

- पिछले चुनाव में बिहार में NDA गठबंधन ने 40 में से 39 सीटें जीती थी. लेकिन इस बार 39 सीटें रिपीट कर पाना मुश्किल है. NDA गठबंधन की सीटें घटेंगी. 
  
- पिछले दोनों लोकसभा चुनाव में राजस्थान में बीजेपी ने सभी 25 की 25 सीटों पर कब्जा जमाया था. हालांकि इस चुनाव में कांग्रेस अच्छा प्रदर्शन करेगी और पार्टी को 3-5 सीटों का फायदा हो सकता है. 

ADVERTISEMENT

- हरियाणा में बीजेपी को 2-3 सीटों पर नुकसान होगा जो कांग्रेस के खाते में जाएंगी. 

- दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के साथ लड़ने से बीजेपी को  1-2 सीटों का नुकसान होने की संभावना है. 

- महाराष्ट्र में शरद पवार और उद्धव ठाकरे के पक्ष में सहानुभूति की लहर है. महाराष्ट्र में कांटे का मुकाबला है जिसमें कांग्रेस के INDIA गठबंधन का पलड़ा भारी है.  

- कर्नाटक में बीजेपी को नुकसान होता हुआ दिख रहा है. कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार है जिसका फायदा कांग्रेस को मिलने जा रहा है. 

इस स्टोरी को न्यूजतक के साथ इंटर्नशिप कर रहे IIMC के छात्र राहुल राज ने लिखा है.

संजय कुमार से पूरी बातचीत आप यहां सुन सकते हैं-

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT