राजस्थान में वोटिंग के बीच जानिए वो सीटें जो तय कर देंगी कि किसकी सरकार, किसका क्या हाल

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

Rajasthan Vidhansabha Election
Rajasthan Vidhansabha Election
social share
google news
Rajasthan Election 2023: राजस्थान में 16वीं विधानसभा चुनाव के लिए शनिवार सुबह 7 बजे से वोटिंग जारी है. राजस्थान में 200 सीटें में से 199 सीटों पर मतदान हो रहा है. गंगानगर की श्रीकरणपुर सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी गुरदीप सिंह कुन्नर का निधन होने की वजह से इस सीट पर मतदान बाद में होगा. राजस्थान में इस बार 5.25 करोड़ से अधिक मतदाता हैं. सभी सीटों के लिए 1862 उम्मीदवार मैदान में हैं. इस बीच नेताओं ने अपनी-अपनी जीत की दावेदारी कर दी है. राजस्थान में कांग्रेस के सबसे चर्चित नेताओं में से एक सचिन पायलट ने वोट डालने से पहले कहा कि कांग्रेस की जीत होगी.
न्यूज एजेंसी पीटीआई-भाषा से बात करते हुए पायलट ने कहा कि मुझे विश्वास है कि कांग्रेस दोबारा सरकार बनाएगी. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता सतीश पुनिया ने कहा है कि राजस्थान में अब लोग डबल इंजन की सरकार चाहते हैं और इसके लिए मतदान करेंगे.

बड़े पैमाने पर वोटिंग करने की अपील

इधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया ‘एक्स’ (पहले ट्विटर) पर लिखा, ‘राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए आज वोट डाले जाएंगे. सभी मतदाताओं से मेरा निवेदन है कि वे अधिक से अधिक संख्या में अपने मताधिकार का प्रयोग कर वोटिंग का नया रिकॉर्ड बनाएं. इस अवसर पर पहली बार वोट देने जा रहे राज्य के सभी युवा साथियों को मेरी ढेरों शुभकामनाएं.’

क्या ये सीटें बदल देंगी रिवाज?

पिछले कुछ चुनावों से राजस्थान का रिकॉर्ड है कि कोई सरकार दोबारा रिपीट नहीं हो रही है. वैसे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और कांग्रेस का कहना है कि इस बार यह रिवाज बदलेगा. कांग्रेस को गहलोत सरकार की चिरंजीवी जैसी जनकल्याणकारी योजनाओं पर भरोसा है.  सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ डेवलपिंग सोसाइटी (CSDS) के प्रोफेसर संजय कुमार ने इस बीच अपने ट्विटर हैंडल पर एक महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की है.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

उन्होंने ट्वीट कर बताया है कि राजस्थान में 2018 के चुनाव में ऐसी 9 सीटें थीं, जहां जीत-हार का अंतर 1000 वोटों से कम था. इसमें कांग्रेस और बीजेपी के खाते में 4-4 सीटें गई थीं. एक सीट निर्दलीय के खाते में गई, जिसने बीजेपी कैंडिडेट को 251 वोटों से हराया.

उन्होंने एक दूसरे ट्वीट में लिखा है कि 2018 के चुनाव में राजस्थान में 74.7 फीसदी मतदान हुए. 2013 में ये आंकड़ा 75.7 फीसदी का था. यानी कम मतदान के बावजूद 2018 में राजस्थान में सत्ता परिवर्तन हो गया.

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

राजस्थान में पिछले चुनाव में काफी करीबी मुकाबला देखने को मिला था. कांग्रेस को 100 सीटें मिली थीं. बीजेपी को 73, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) को 6 सीटें मिली थीं. राजस्थान में बहुमत का आंकड़ा 101 सीटों का है. तब अशोक गहलोत ने बाद में बसपा के 6 विधायकों का कांग्रेस में शामिल करा लिया था. इस बार भी क्लोज कॉन्टेस्ट वाली सीटों पर नजर है. इसके अलावा यह भी देखने वाली बात है कि हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLD) की और चंद्रशेखर आजाद की आजाद समाज पार्टी का गठबंधन किसे नुकसान पहुंचाएगा या कितनी सीटें जीतेगा, ये भी देखने वाली बात होगी.

फलोदी का सट्टा बाजार भी खूब बदला

पूरे राजस्थान चुनाव के कैंपेन के दौरान फलोदी का सट्टा बाजार भी नए नए रंग दिखाता रहा. इस सट्टा बाजार में बीजेपी को एज दिखाया जा रहा है. वैसे सट्टा बाजार के दावों की न्यूज Tak कोई पुष्टि नहीं करता है. सट्टा खेलना गैरकानूनी भी है.

follow on google news
follow on whatsapp

ADVERTISEMENT