UP में फिर टकराएगी NDA-INDIA, 10 सीटों पर '2 लड़के' करेंगे कमाल या BJP करेगी पलटवार?

शुभम गुप्ता

ADVERTISEMENT

newstak
social share
google news

Uttar Pradesh Bypol Elections: लोकसभा चुनाव खत्म होने के बाद सभी की नजरें यूपी की 10 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव पर हैं. उपचुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों ने अपनी कमर कस ली है. इस उपचुनाव में भी लोकसभा चुनाव की तरह बीजेपी और समाजवादी पार्टी के बीच सीधा मुकाबला होने की उम्मीद है. लोकसभा नतीजे आने के बाद यूपी की 9 सीटें खाली हो गई हैं.  इसके अलावा सीसामऊ सीट से विधायक इरफान सोलंकी को आगजनी के केस में जेल जाना पड़ा जिसके चले उनकी विधायकी चली हई है. उनकी सदस्यता जाने की वजह से इस सीट पर भी उपचुनाव होंगे.  अब उन सभी 10 सीटों पर उपचुनाव होंगे- करहल, मीरापुर, खैर, सीसामऊ, फूलपुर, मझवा, कुंदरकी, गाजियाबाद, कटेहरी और मिल्कीपुर. 

यूपी की खाली हुई 10 विधानसभा सीटों में से सपा की 5, बीजेपी की 3, आरएलडी और निषाद पार्टी की 1-1 सीट खाली हुई है. आइए जानते हैं इन सीटों के बारे में विस्तार से.

गाजियाबाद 

बीजेपी के अतुल गर्ग गाजियाबाद सीट से सांसद चुने गए हैं. उनके सांसद बनने के बाद उनकी विधानसभा सीट खाली हो गई है. वह गाजियाबाद विधानसभा सीट से विधायक थे. अतुल गर्ग ने लोकसभा चुनाव में गाजियाबाद सीट पर 1,37, 206 वोट हासिल किए. कांग्रेस की डॉली शर्मा को  73, 950 वोट मिले. भाजपा इस सीट से करीब 63  हजार वोट से आगे रहा. इस नतीजे के आधार पर कहा जा सका है कि उपचुनाव में फिलहाल यहां से भाजपा सहयोगी का पलड़ा भारी है. 2022 के विधानसभा में भाजपा प्रत्याशी ने एक लाख से ज़्यादा वोटों से जीत दर्ज की थी.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

करहल 

सपा प्रमुख कन्नौज से सांसद बनकर संसद पहुंचे हैं. अखिलेश पहले करहल सीट से विधायक थे. संसद पहुंचने के बाद उन्होंने करहल से इस्तीफा दे दिया है.करहल सीट की बात करें तो ये मैनपुरी लोकसभा में आती है.लोकसभा चुनाव के नतीजों को देखें तो यहां पर अखिलेश को 1,34,049 वोट मिले वहीं बीजेपी को 76,509 वो़ट मिले. सपा यहां से करीब 57 हजार वोटों से आगे रही. उपचुनाव में इस सीट पर सपा का पलड़ा भारी रह सकता है. 2022 में अखिलेश यादव नें विधानसभा में 67 हजार से जीत दर्ज की थी.

मिल्कीपुर

मिल्कीपुर विधानसभा सीट फैजाबाद के अंतर्गत आती है. इस सीट से विधायक थे सपा के अवधेश प्रसाद. उन्होंने फैजाबाद संसदीय क्षेत्र से जीत दर्ज की है और मिल्कीपुर सीट से इस्तीफा दे दिया है. 2022 विधानसभा चुनाव में यहां सपा के अवधेश प्रसाद ने बीजेपी के बाबा गोरखनाथ को 12 हजार 923 वोटों से चुनाव हराया था. 

ADVERTISEMENT

खैर 

सपा नेता अनूप प्रधान इस सीट पर विधायक थे. उन्होंने हाथरस सीट से सांसद बनने के बाद इस सीट से इस्तीफा सौंप दिया है. अनूप प्रधान के इस्तीफे के बाद अलीगढ़ की खैर विधानसभा सीट उपचुनाव होना है. लोकसभा चुनाव की बात करें को अनूप प्रधान ने 2,47,318 वोटों से जीत दर्ज की है. 2022 में खैर सीट पर बीजेपी के अनुप प्रधान बाल्मीकि ने बसपा के चारु कैन को 74 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था.

ADVERTISEMENT

फूलपुर 

बीजेपी के प्रवीण पटेल फूलपूर से विधायक थे, जो 2024 के लोकसभा में सांसद चुने गए हैं. उनके संसद पहुंचने के बाद फूलपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है.  2022 के  विधानसभा चुनाव की बात करें तो प्रवीण पटेल ने तीन हजार वोटों से जीत दर्ज की थी.

मझवा 

मझवा विधानसभा सीट मिर्जापुर लोकसभा के अंतर्गत आती है. एनडीए का हिस्सा निषाद पार्टी के विधायक विनोद बिंद भदोही सीट से सांसद चुने गए हैं. विनोद बिंद के मझवा सीट से इस्तीफे के बाद यहां पर उपचुनाव होने हैं. इस सीट पर एनडीए का पलड़ा भारी रह सकता है. 2022 चुनाव में इस सीट से निषाद पार्टी ने करीब 33 हजार वोटों से जीत दर्ज की थी.

कुंदरकी 

कुंदरकी विधानसभा सीट संभल लोकसभा सीट में आती है. सपा के जियाउर्रहमान बर्क ने संभल लोकसभा सीट पर चुनाव जीतने के बाद कुंदरकी विधानसभा सीट से इस्तीफा दे दिया है. जियाउर्रहमान के इस्तीफे के बाद कुंदरकी विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है. उपचुनाव होने पर सपा का यहां से बाजी मार सकती है. 2022 विधानसभा चुनाव की बात करें तो सपा ने 43 हजार वोटों ये सीट जीती थी.

मीरापुर 

रालोद के दीपक सैनी ने मीरापुर सीट से इस्तीफा दे दिया है. ये सीट बिजनौर के अंदर आती है. दीपक सैनी के इस्तीफे के बाद ये सीट खाली हो गई है. बिजनौर लोकसभा चुनाव में दीपक सैनी को को 72,320 वोट मिले. वहीं सपा को  63,351 वोट मिले. लोकसभा चुनाव के नतीजे के आधार पर कहा जा सका है कि उपचुनाव में फिलहाल यहां से भाजपा सहयोगी का पलड़ा भारी है. 

कटेहरी

सपा के लाल जी वर्म ने कटेहरी विधानसभा सीट से इस्तीफा सौंप दिया है. उन्होंने अंबेडकरनगर लोकसभा सीट से चुनाव जीतने लड़ा और जीता. लाल जी वर्मा के  इस्तीफे के बाद कटेहरी विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है.  2022 में कटेहरी में कुल 37.78 प्रतिशत वोट पड़े.

सीसामऊ 

कानपुर नगर जिले के अंतर्गत आनी वाली सीसामऊ सीट पर भी उपचुनाव होनें हैं. इस सीट से सपा के इरफान सोलंकी विधायक थे. हालांकि आगजनी के मामले में उन्हें जेल हो गई जिसके बाद उनकी सदस्यता रद्द कर दी गई है. इरफान की विधायकी जाने के बाद इस सीट पर भी उपचुनाव होने हैं. 2022 विधानसभा चुनाव में सपा के इरफान सोलंकी ने बीजेपी के उम्मीदवार को 12266 वोटों के मार्जिन से हराया था. सोलंकी तीन बार सपा विधायक रहे हैं, लेकिन उनसे पहले दो बार कांग्रेस ने यह सीट जीती थी. 

हाल ही के लोकसभा चुनाव संपन्न हुए हैं. यूपी में इंडिया गठबंधन ने काफी अच्छा प्रदर्शन किया है. विपक्ष होने वाले उपचुनाव में भी उसी प्रदर्शन को दोहराना चाहेगा. वहीं बात करें बीजेपी और उनके सहयोगी दलों की तो वो यूपी में अपने प्रदर्शन को पहले से बेहतर करने की कोशिश करेगी.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT