लोकसभा के अंदर कूदने और संसद के बाहर हंगामा करने वाले चारों कौन हैं? इनमें एक लड़की भी शामिल

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

Parliament Attack
Parliament Attack
social share
google news

Security Breach in Parliament: संसद भवन में बुधवार को लोकसभा सत्र चलने के दौरान दो शख्स विजिटर गैलरी से सदन में कूद गए. एक शख्स के हाथ में ऐसा कुछ था जिससे पीले रंग की जबरदस्त गैस निकल रही थी. दूसरा शख्स नीचे गिर गया. संसद टीवी के वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे वह शख्स एक बेंच से दूसरे बेंच पर कूद रहा है और सांसद उसे पकड़ने की कोशिश कर रहे हैं. आज ही संसद के बाहर भी बवाल देखने को मिला. बाहर एक युवती और युवक ने नारा लगाया और गैस कैनिस्टर से धुआं फैलाया. आज ही के दिन यानी 13 दिसंबर 2001 को संसद पर आतंकी हमला हुआ था. संसद की सुरक्षा में हुई इस चूक ने अचानक से उस घटना की याद दिला दी है.

हर कोई ये जानना चाह रहा है कि बुधवार को लोकसभा में घुसकर हंगामा मचाने वाले ये युवक कौन थे. यह भी कि आखिर संसद के बाहर जिन्होंने बवाल किया, वे कौन थे. आइए आपको विस्तार से बताते हैं.

शुरुआती जांच में आशंका सामने आई है कि संसद के बाहर और अंदर हंगामा करने वाले चारों संभवतः एक दूसरे को जानते थे और उनका मकसद एक ही था. वे सोशल मीडिया के जरिए एक-दूसरे से मिले थे फिर ये प्लान बनाया था.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

लोकसभा के अंदर कूदने वालों का नाम सागर शर्मा और मनोरंजन बताया जा रहा है. मनोरंजन 35 साल का है और कर्नाटक के मैसूर का रहने वाला है. उसने मैसूर के विवेकानंद यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर साइंस में इंजीनियरिंग किया हुआ है. ये दोनों शख्स संसद में भारतीय जनता पार्टी के मैसूर से सांसद प्रताप सिम्हा के पास पर अंदर आए थे. सांसद कुंवर दानिश अली ने एक पास की तस्वीर ट्वीट भी की है.

ADVERTISEMENT

मनोरंजन के पिता देवराजे गौड़ा ने मीडिया से बताया कि, ‘मेरा बेटा अच्छा है. वह ईमानदार है. उसे सामाजिक कार्य करना पसंद है. वह समाज के कल्याण के लिए अपना बलिदान देना पसंद करता है. वह स्वामी विवेकानन्द की किताबें पढ़ रहा था. मैं दावे से नहीं कह सकता कि इस वजह से उसकी ऐसी मानसिकता बनी या नहीं.’

ADVERTISEMENT

संसद के बाहर बवाल करने वाले कौन थे?

लोकसभा के अंदर की घटना से पहले संसद के बाहर भी एक महिला और एक पुरुष ने प्रदर्शन किया. उन्होंने ‘तानाशाही नहीं चलेगी’ के नारे लगाए. उनके पास भी वैसी ही सामग्री थी, जिससे पीले रंग की गैस निकल रही थी. महिला का नाम नीलम है और और हरियाणा के जींद की है. नीलम हिसार के पीजी में रहकर सिविल सर्विस की तैयारी करती है. बताया ये जा रहा है कि राजनीति में उसकी बहुत रुचि है. वहीं पुरुष अमोल बताया जा रहा है.

कौन हैं बीजेपी सांसद प्रताप सिम्हा?

ऐसा दावा किया जा रहा है कि लोकसभा में कूदने वाले दोनों शख्स बीजेपी सांसद प्रताप सिन्हा के नाम से विजिटर पास पर अंदर आए थे. 2014 में कर्नाटक के मैसूर सीट से प्रताप सिम्हा पहली बार चुनाव जीत लोकसभा पहुंचे थे. 2019 में प्रताप सिम्हा कांग्रेस के सी. एच. विजयाशंकर को हरा दूसरी बार लोकसभा पहुंचे. इससे पहले प्रताप सिम्हा भारतीय जनता युवा मोर्चा (BJYM) के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रह चुके हैं. प्रताप सिम्हा का जन्म 21 जून 1976 को कर्नाटक में हासन जिले के सकलेशपुर में हुआ था. राजनीति में आने से पहले प्रताप सिम्हा कन्नड़ अखबार विजय कर्नाटक से जुड़े थे. प्रताप सिम्हा हिंदुत्व के समर्थन में “बेट्टाले जगत्तु” (नग्न दुनिया) नाम का अपना कॉलम भी लिखते हैं.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT