Rahul Gandhi in Lok Sabha: संसद में अवधेश प्रसाद को 'अयोध्या के किंग' बता हाथ क्यों मिलाने लगे राहुल गांधी? जानिए 

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

newstak
social share
google news

Rahul Gandhi in Lok Sabha: लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा हो रही है. सुबह से सरकार के पक्ष के बोलने के बाद दूसरे पहर में विपक्ष के नेता राहुल गांधी के बोलने की बारी आई. राहुल गांधी ने अपने भाषण में मोदी सरकार को जमकर घेरा. राहुल गांधी ने सत्ता पक्ष पर आरोप लगाया कि, बीजेपी हिंसा और नफरत फैला रही है और पिछले 10 वर्षों से संविधान और भारत की अवधारणा पर सुनियोजित ढंग से हमला कर रही है. इन सब के साथ ही उन्होंने उत्तर प्रदेश के अयोध्या से समाजवादी पार्टी के सांसद अवधेश प्रसाद को लेकर बड़ी बात कह दी. आइए आपको बताते हैं राहुल गांधी ने कहा. 

अयोध्या से बच के निकले पीएम मोदी: राहुल गांधी 

राहुल गांधी ने लोकसभा में बोलते हुए कहा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सर्वे करने वालों से तीन बार सर्वे कराया. वो सर्वे इस बात के लिए था कि, क्या मैं अयोध्या से चुनाव लड़ जाऊ? ये सेफ है? लेकिन सर्वे करने वालों ने तीनों ही बार यही बोला कि, 'अयोध्या में मत लड़ जाना अयोध्या की जनता हरा देगी.' यही वजह है कि, प्रधानमंत्री वाराणसी गए और वहां बच के निकले.' राहुल गांधी ने कहा कि, बीजेपी सरकार ने वहां के लोगों की जमीन ले ली, उन्हें बेघर कर दिया यही वजह है कि, अयोध्या की जनता इस बार साफ संदेश दे दिया है. 

अयोध्या के किंग हैं अवधेश प्रसाद: राहुल गांधी 

राहुल गांधी ने बीजेपी सरकार से जनता के मन में डर फैलाने की बात करते हुए कहा, 'इन्होंने कहा कहा तक डर नहीं फैला रखा है. जनता के मन में डर फैलाने के अलावा आपने कोई काम नहीं किया. इसी बीच राहुल गांधी ने अयोध्या से सांसद अवधेश प्रसाद से हाथ मिलाते हुए कहा कि, 'आप अयोध्या के किंग हैं अयोध्या की जनता ने आपको किंग बनाकर संसद भेजा है.'

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

'बीजेपी सरकार ने हर व्यक्ति के लिए डर का पैकेज दिया'

अपने भाषण के दौरान राहुल गांधी ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, 'आपने हर व्यक्ति के लिए डर का पैकेज दिया. रोजगार तो आपने खत्म कर दिया. अब नया फैशन निकला है NEET. एक प्रोफेशनल स्कीम को आपने कॅमर्शियल स्कीम में तब्दील कर दिया. गरीब मेडिकल कॉलेज नहीं जा सकता. पूरा का पूरा एग्जाम अमीर बच्चों के लिए बनाया है. इससे हजारों करोड़ रुपये बन रहे हैं. कॅमर्शियल पेपर आपने जो बना रखे हैं सात साल में उसके 70 पेपर लीक हुए हैं. प्रेसिडेंट एड्रेस में न पेपर लीक की बात होगी न अग्निवीर की बात होगी. हम एक दिन के डिस्कशन की मांग की, सरकार ने बोला - नहीं, नहीं हो सकता.'
 

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT