स्पीकर को लेकर राजनाथ-खड़गे में हुई 3 बार बात, रिस्पांस नहीं आने पर INDIA ब्लॉक ने उतारा अपना उम्मीदवार 

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

newstak
social share
google news

Lok Sabha Speaker Election: लोकसभा का सत्र शुरू होते ही 18वीं लोकसभा के स्पीकर पद को लेकर सियासत गरमा गई है. NDA और INDIA के बीच स्पीकर पद के लिए सहमति बनाने के लिए कई बार बात हुई लेकिन सहमति नहीं बन पाई है. विपक्ष डिप्टी स्पीकर के पद पर अड़ गया था. विपक्ष ने पहले ही कहा था कि अगर डिप्टी स्पीकर का पद नहीं मिलता है तो वो भी स्पीकर पद के लिए अपना उम्मीदवार खड़ा करेंगे. NDA की ओर से ओम बिरला जबकि विपक्षी INDIA ब्लॉक की ओर से के. सुरेश ने स्पीकर पद के लिए नामांकन भर दिया है. यानी अब लोकसभा स्पीकर को लेकर सदन में चुनाव होगा. 

राहुल गांधी के बयान से गरमा गई सियासत 

लोकसभा सत्र में शामिल होने आज जब राहुल गांधी संसद पहुंचे तब उन्होंने एक बयान दिया. उन्होंने कहा कि, 'विपक्ष के पास राजनाथ सिंह का कॉल आया था. उन्होंने कहा था कि स्पीकर पद पर विपक्ष को समर्थन करना चाहिए और एक राय बनानी चाहिए. हमने कहा कि हम स्पीकर का समर्थन करेंगे, लेकिन डिप्टी स्पीकर का पद विपक्ष को मिलना चाहिए. राजनाथ सिंह ने कहा था कि मल्लिकार्जुन खड़गे को कॉल बैक करेंगे.' लेकिन वो कॉल अभी तक नहीं आया. उन्होंने कहा, मोदी कहते कुछ हैं और करते कुछ हैं. अगर डिप्टी स्पीकर का पद विपक्ष को मिलेगा, तब ही हम समर्थन करेंगे.

राहुल गांधी के इस बयान के बाद स्पीकर पद को लेकर सरकार और विपक्ष के बीच टकराव साफ नजर आई. इस बीच ओम बिरला ने स्पीकर पद के लिए नामांकन कर दिया. दूसरी तरफ INDIA ब्लॉक ने के. सुरेश को स्पीकर पद के लिए उम्मीदवार बनाया और उन्होंने भी नामांकन कर दिया. 

'स्पीकर किसी दल या गठबंधन का नहीं बल्कि सदन का होता है'

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने स्पीकर के चुनाव को लेकर कहा कि, 'पहले उपाध्यक्ष कौन होगा ये तय करें फिर अध्यक्ष के लिए समर्थन मिलेगा, इस प्रकार की राजनीति की हम निंदा करते हैं. स्पीकर किसी सत्तारूढ़ पार्टी या विपक्ष का नहीं होता है वो पूरे सदन का होता है, वैसे ही उपाध्यक्ष भी किसी पार्टी या दल का नहीं होता है पूरे सदन का होता है. किसी विशिष्ट पक्ष का ही उपाध्यक्ष हो ये लोकसभा की किसी परंपरा में नहीं है.'

यह भी पढ़ें...

कुल मिलाकर अब NDA और INDIA दोनों खेमों से स्पीकर पद के लिए उम्मीदवार अपना नामांकन कर चुके हैं. अब बुधवार सुबह 11 बजे स्पीकर को लेकर वोटिंग होगी. उसके बाद नतीजों का ऐलान किया जाएगा. आपको बता दें कि, अब तक लोकसभा स्पीकर को लेकर आम सहमति बनती रही है और डिप्टी स्पीकर का पद विपक्षी को मिलता रहा है. हालांकि इस बार सरकार और विपक्ष में हुए टसल के बाद ये देखना दिलचस्प होगा कि, क्या डिप्टी स्पीकर के पद पर विपक्ष कब्जा जमा पता है या नहीं?

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT