'NEET पेपर लीक के मास्टरमाइंड सिकंदर के लिए तेजस्वी के PS ने बुक करवाया था रूम', बिहार डिप्टी CM का दावा

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

newstak
social share
google news

NEET Paper Leak Case: मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन के लिए होने वाली सबसे बड़ी परीक्षा NEET को लेकर रोज नए खुलासे हो रहे है. नया खुलासा बिहार से हुआ है जहां अनुराग यादव नाम के अभ्यर्थी ने पेपर लीक हुआ है उसे कबूल किया है.  पटना के जूनियर इंजीनियर सिकंदर प्रसाद यादवेंदु जो अनुराग यादव का फूफा है ने उसे परीक्षा से एक दिन पहले पेपर उपलब्ध कराया था. पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया है. इसके बाद अब असली खेल शुरू हुआ है. बिहार की डिप्टी सीएम विजय सिन्हा ने बड़ा दावा किया है कि, पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के पर्सनल सेक्रेटरी(PS) प्रीतम ने नीट पेपर लीक के मास्टरमाइंड सिकंदर के लिए कमरा बुक करवाया था. डिप्टी सीएम के इस दावे के बाद इस मामले में नई सियासत शुरू हो गई है. आइए आपको बताते हैं पूरा मामला. 

पहले जानिए विजय सिन्हा का क्या है दावा

विजय सिन्हा ने नीट और 'मंत्री एनएच' कनेक्शन पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि, मैंने मामले की विभागीय जांच कराई है. जानकारी के मुताबिक, 1 मई को तेजस्वी के PS प्रीतम कुमार ने आरसीडी कर्मचारी प्रदीप को सिकंदर कुमार के लिए राज्य सरकार के रोड निर्माण विभाग(NH) के निरीक्षण गेस्ट हाउस में कमरा बुक करने के लिए बुलाया था. उन्होंने आगे कहा कि, अब गेस्ट हाउस का नियम है की अधिततम तीन कमरे 3 दिन के लिए बुक कर सकते हैं. इससे ज्यादा बुक करने की अनुमति NH के अधिकारियों को ही है. इस मामले का प्रीतम कुमार और तेजस्वी से सीबीआई पूछताछ करे तो स्पष्ट होगा कि पेपर लीक में किसका हाथ है.

'मंत्री जी कहकर बुक करवाया रूम'

डिप्टी सीएम ने कहा कि, बिहार में अमूमन जो मंत्री रहते हैं, सिर्फ उन्हीं को नहीं बल्कि पूर्व मंत्री को भी मंत्री जी बुलाया जाता है. इसी तरह मंत्री जी कहकर प्रीतम ने बुक‍िंग कराई. विजय स‍िन्हा दावा ने दावा किया हैं कि, प्रीतम और सिकंदर यादव के बीच के रिश्तों की कड़ी जुड़ रही है. मंत्री जी के नाम पर प्रीतम ने जो कमरा बुक कराया वो तेजस्वी का नाम देकर कराया. 

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

रजिस्टर में नाम के आगे लिखा था 'मंत्री जी'  

आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद बीते मंगलवार को उनसे पूछताछ की गई, जिस दौरान कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए. एक अहम खुलासा ये हुआ कि, आरोपी जिस होटल में ठहरे थे, वहां के रजिस्टर में एक आरोपी ने अपने नाम के आगे मंत्री जी लिखवाया था.  इस पेपर लीक कांड में पटना जेल भेजे गए अभ्यर्थी कुबूल कर चुके हैं कि, उन्हें नीट परीक्षा से चार घंटे पहले प्रश्नपत्र और उसका उत्तर मिल गया था. इसके बाद इसका प्रिंट आउट लिया गया और पांच मई को सुबह 10 बजे इन्हें रटाना शुरू किया गया.

आपको बता दें कि पेपर लीक मामले में अनुराग यादव नाम के अभ्यर्थी को भी गिरफ्तार किया गया है. इस बात की पुष्टि हुई है कि यादव पटना के NH के गेस्ट हाउस में ठहरा था. दावा है कि उसे NH के गेस्ट हाउस में इसलिए ठहराया गया था, ताकि उसे बाद में तय जगह ले जाकर नीट के लीक हुए पेपर से सवाल दिखाकर जवाब रटाया जा सके. लेकिन सबसे बड़ी बात ये है कि आरोपी का ये कमरा किसी मंत्री जी के जरिए बुक किया गया था.

अब जानिए 'पेपर लीक के मास्टरमाइंड' सिकंदर यादवेंदु के बारे में

पुलिस ने नीट पेपर लीक मामले में सबसे पहले सिकंदर नाम के शख्स को पकड़ा था उसके बारे में बिहार पुलिस को इनपुट मिला था. आरोपियों ने कई सेंटरों और सेफ हाउस में पेपर सॉल्वर बिठाए थे. इनके पास पहले से ही प्रश्नपत्र मौजूद थे. नगर विकास विभाग में जूनियर इंजीनियर सिकंदर प्रसाद यादवेंदु को अखिलेश और बिट्टू के साथ शास्त्रीनगर पुलिस ने बेली रोड पर राजवंशी नगर मोड़ पर नियमित जांच के दौरान गिरफ्तार किया था. अब तक की जांच में पता चला है कि जूनियर इंजीनियर सिकंदर ने पेपर लीक की पूरी साजिश रची थी. इनके पास से कई नीट प्रवेश पत्र मिले थे. यादवेंदु द्वारा बताए गए इनपुट के आधार पर छापेमारी के बाद आयुष, अमित और नितिश को गिरफ्तार किया गया. इसके बाद पेपर लीक को लेकर बिहार के नालंदा के संजीव सिंह को भी गिरफ्तार किया गया.

ADVERTISEMENT

नीट पेपर लीक मामले के मास्टरमाइंड सिकंदर यादवेंदु ने कुबूल किया है कि उसकी मुलाकात अमित आनंद से हुई थी. यादवेंदु का कहना है कि अमित ने बताया कि वो नीट-BPSC-UPSE की परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक करके छात्रों को याद करवाकर पास करवाता है. इसके लिए 30-32 लाख रुपये लगते हैं.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT