लोकसभा में राहुल गांधी ने दिखाए तेवर तो अब राज्यसभा के लिए कांग्रेस ने तैयार किया ये प्लान

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

newstak
social share
google news

Congress in Rajya Sabha: लोकसभा चुनाव 2024 में कांग्रेस का प्रदर्शन के पिछले दो चुनावों से काफी बेहतर रहा. पार्टी को 99 सीटों पर जीत मिली. इससे पहले के चुनाव 2014 में 42 और 2019 में 54 सीटों पर सिमट गई थी. यानी पार्टी के पास विपक्ष का नेता बनने भर का भी संख्याबल नहीं था. इस बार पार्टी लोकसभा में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी और राहुल गांधी सदन में नेता प्रतिपक्ष(LoP) बनाए गए. LoP बनने के बाड राहुल गांधी सदन में निखार कर सामने आए. LoP के रूप में में उनके पहले ही भाषण ने खूब सुर्खियां बटोरीं. कुल मिलाकर लोकसभा यानी निम्न सदन में तो कांग्रेस पार्टी और विपक्ष की स्थिति पहले की अपेक्षा काफी अच्छी दिख रही है. 

इसी के साथ अब कांग्रेस का पूरा ध्यान उच्च सदन यानी राज्यसभा पर है. पार्टी राज्यसभा में विपक्ष के नेता(LoP) को मजबूत करने के लिए गणित तैयार कर रही है. कांग्रेस दोनों सदनों में प्रमुख प्रतिद्वंद्वी के रूप में अपनी स्थिति मजबूत करना चाहती है. 

राज्यसभा में भी कांग्रेस बनाना चाहती है अपनी स्थिति मजबूत 

कांग्रेस लोकसभा के साथ-साथ राज्यसभा में पनी स्थिति मजबूत करना चाहती है. हालांकि वर्तमान में उच्च सदन में पार्टी की स्थिति थोड़ी खराब लग रही है. इसके पीछे की वजह केसी वेणुगोपाल (राजस्थान) और दीपेंद्र हुडा (हरियाणा) के अलापुझा और रोहतक से लोकसभा चुनाव जीतना है जो अब लोकसभा के सदस्य बन गए है. यही वजह है कई कि, पार्टी का राज्यसभा में संख्याबल 28 से घटकर 26 हो गई है. वैसे लोकसभा चुनाव से पहले यह बहस का विषय था कि क्या राज्यसभा सांसदों को लोकसभा चुनाव लड़ना चाहिए क्योंकि इससे उच्च सदन में पार्टी की संख्या कम हो जाएगी. 

राजस्थान में मिली हार लेकिन तेलंगाना में साध लिया है समीकरण 

पिछले दिनों हुए राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस राजस्थान से राज्यसभा सीट बीजेपी के हाथों हार गई. हालांकि पार्टी अब तेलंगाना से एक सीट हासिल करने की जुगत में है. इसी के तहत सीएम रेवंत रेड्डी ने केशव राव को BRS से कांग्रेस में शामिल कराया. उन्होंने राज्यसभ और पार्टी से इस्तीफा दे दिया. अब दोबारा चुनाव होने पर उनके राज्यसभा में लौटने की संभावना है. इससे राज्यसभा में कांग्रेस की संख्या 27 हो जाएगी जो पार्टी के लिए ठीक-ठाक स्थिति होगी. 

यह भी पढ़ें...

राज्यसभा में विपक्ष का नेता बनने के लिए किसी पार्टी को सदन की कुल सदस्य संख्या का दसवां हिस्सा चाहिए होता है जो वर्तमान में 250 है. यानी वर्तमान में LoP के लिए 25 सांसदों की आवश्यकता है. कांग्रेस 25 के इस आंकड़े से सिर्फ एक पायदान ऊपर है और LoP का पद कांग्रेस अध्यक्ष मलिकार्जुन खड़गे के पास है. इस बात पर पार्टी नेता गुरदीप सप्पल ने कहा, 'हमने अंकगणित पर काम किया है और आराम से स्थिति में हैं, LoP पद को कोई खतरा नहीं है.'

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT