सदन में नीतीश कुमार के ‘सेक्स एजुकेशन’ वाले बयानों पर बवाल, बीजेपी को दिखी अश्लीलता

ADVERTISEMENT

नीतीश कुमार ने विधानसभा में बोलते हुए महिलाओं के बारे में विवादित बयान दिया है. महिलाओं पर सेक्स के बारे में बोलते हुए उन्होंने अमर्यादित भाषा का किया प्रयोग
नीतीश कुमार ने विधानसभा में बोलते हुए महिलाओं के बारे में विवादित बयान दिया है. महिलाओं पर सेक्स के बारे में बोलते हुए उन्होंने अमर्यादित भाषा का किया प्रयोग
social share
google news

Bihar Caste Census: 7 नवंबर को बिहार विधानसभा में नीतीश कुमार सरकार ने जातिगत जनगणना के विस्तृत आंकड़े पेश किए. इस दौरान नीतीश ने प्रजनन दर पर भी चर्चा की. जातिगत जनगणना और प्रजनन दर पर बोलते हुए नीतीश ने कुछ ऐसा कह दिया जिससे सदन में माहौल बदल गया. कुछ विधायक हंसने लगे, तो कुछ विरोध की प्रतिक्रिया में नजर आए. वहीं महिला विधायकों ने नीतीश के बयान की आलोचना की है. फिलहाल नीतीश कुमार के ये बयान सोशल मीडिया पर तीखी चर्चा का विषय बने हुए हैं.

क्या बोले नीतीश

विधानसभा में बोलते हुए नीतीश ने शादी के बाद पति और पत्नी के बीच संबंध बनाने की प्रक्रिया पर चर्चा की. इस दौरान उन्होंने कुछ इशारे भी किए. उनके इस बयान पर विभिन्न प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. सोशल मीडिया पर भी घमासान मचा हुआ है. कोई इसे साहसिक बता रहा है, कि सदन में इस तरह सेक्स एजुकेशन पर खुल कर अपना बयान दर्ज कराया. तो कोई उनके इस बयान की आलोचना कर रहा है. नीतीश ने न सिर्फ विधानसभा में सेक्स एजुकेशन से जुड़ा बयान दिया, बल्कि विधान परिषद में इसे और विस्तार से समझाया.

यहां देखिए विधानसभा वाला बयान

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

यहां देखिए विधान परिषद वाला बयान

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

दरअसल नीतीश कुमार टीएफआर (कुल प्रजनन दर) की बात कर रहे थे. टीएफआर से मतलब कि एक महिला अपने जीवन काल में कितने बच्चों को जन्म दे सकती है. नीतीश के मुताबिक पहले एक महिला 4.3 बच्चों को जन्म देती थी जो अब घटकर 2.9 पर आ गया है. उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास इसे जल्द ही दो पर लाने का है. नीतीश के मुताबिक अगर लड़की पढ़ी-लिखी होगी तो वह अपने पति से सेक्स के दौरान सीमन को एज्कुलेट करने से मना कर सकेगी. इस बयान की सराहना के साथ-साथ गंभीर रूप से आलोचना भी हो रही है.

बीजेपी को दिखी अश्लीलता

नीतीश कुमार के बयान की आलोचना करते हुए बिहार बीजेपी ने अपने एक्स अकाउंट पर पोस्ट कर लिखा ‘भारत की राजनीति में नीतीश बाबू जैसा अश्लील नेता देखा नहीं होगा’.

आगे लिखा कि ‘नीतीश बाबू के दिमाग में एडल्ट बी ग्रेड फिल्मों का कीड़ा घुस गया है.’ बिहार बीजेपी प्रमुख सम्राट चौधरी ने भी नीतीश के इस बयान की आलोचना करते हुए कहा है कि सदन में नीतीश के बयान से बिहार शर्मसार है. एक और बीजेपी नेता सुनील देवधर ने ट्विटर पर लिखा है कि संगत कौरवों जैसों की होगी तो सदन में मर्यादांए तो टूटेंगी ही. उसी पोस्ट में उन्होंने लिखा है कि जब नाश मनुज पर छाता है, पहले विवेक मर जाता है. बिहार विधानपरिषद की सदस्य MLC निवेदिता सिंह ने भी नीतीश कुमार के इस बयान पर कड़ा विरोध जताया है. उन्होंने कहा कि यह दिन पूरे विधानमंडलीय इतिहास में काले-दिन और काले अध्याय के रूप में जाना जाएगा.

मुख्यमंत्री जी सेक्स एजुकेशन की बात कर रहे थेः तेजस्वी

वहीं बिहार के उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने मीडिया से मुखातिब होते हुए नीतीश के बयान का समर्थन किया. तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश जी सेक्स एजुकेशन की बात कर रहे थे. अगर कोई इस बयान का गलत मतलब निकालता है तो ये गलत बात है. यह तो स्कूलों में बच्चों को पढ़ाया जाता है, साइंस में , बायोलॉजी में. उन्होंने कहा कि सेक्स एजुकेशन की बात करते समय लोग शरमाते हैं जिससे उन्हें बचना चाहिए.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT