पहले फेज में जिन 21 राज्यों की 102 सीटों पर हुआ मतदान, 2019 के चुनाव में क्या थे नतीजे? जानिए

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

newstak
social share
google news

First Phase Election: देश में कल लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए मतदान हुए. पहले चरण में 21 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों की 102 लोकसभा सीटों पर मतदान हुआ. इसके साथ ही इस चरण में अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम में विधानसभा चुनाव भी हुए. चुनाव आयोग के मुताबिक पहले चरण में 102 सीटों पर 60.03 फीसदी वोटिंग हुई. चुनाव आयोग के मुताबिक पहले चरण में 16.63 करोड़ से ज्यादा वोटर्स थे. इनमें 8.4 करोड़ पुरुष और 8.23 करोड़ महिला वोटर्स थे. इनमें से 35.67 लाख वोटर्स ऐसे थे जिन्हें पहली बार वोट डालना था. पहले चरण में मतदान के लिए 1.87 लाख पोलिंग बूथ बनाए गए थे.

पहले चरण के मतदान समाप्त होने के बाद अब जनता के मन में ये सवाल उठ रहा है कि, आखिर किसे जीत मिल रही है? हालांकि इसके नतीजे तो 4 जून को मतगणना के बाद ही पता चल पाएंगे. लेकिन इससे पहले आइए हम आपको बताते हैं कि, पहले चरण की इन 102 लोकसभा की सीटों पर क्या रहा था पिछले चुनाव का नतीजा.  

पहले जानिए कहा कितने फीसदी हुआ मतदान?

पहले चरण में अंडमान निकोबार में- 63.99 फीसदी, अरुणाचल प्रदेश- 72.74 फीसदी, असम- 75.95  फीसदी, बिहार- 48.48 फीसदी, छत्तीसगढ़- 67.56 फीसदी, जम्मू-कश्मीर- 68.27 फीसदी, लक्षद्वीप- 83.88 फीसदी, मध्य प्रदेश- 67.08 फीसदी, महाराष्ट्र- 61.87 फीसदी, मणिपुर- 72.17 फीसदी, मेघालय- 74.50 फीसदी, मिजोरम- 56.60 फीसदी, नगालैंड- 56.91 फीसदी पुडुचेरी- 78.80 फीसदी, राजस्थान- 57.26 फीसदी, सिक्किम- 80.03 फीसदी, तमिलनाडु- 69.46 फीसदी, त्रिपुरा- 81.62 फीसदी, उत्तर प्रदेश- 60.25 फीसदी, उत्तराखंड- 55.89 फीसदी, पश्चिम बंगाल- 80.55 फीसदी मतदान हुआ. 

तमिलनाडु की 39 सीटों पर क्या थे 2019 के नतीजे 

तमिलनाडु में 2019 के लोकसभा चुनाव में MK स्टालिन की पार्टी DMK और कांग्रेस दोनों पार्टियों ने साथ मिलकर क्लीन स्वीप किया था. पिछले चुनाव में प्रदेश की 39 लोकसभा सीटों पर DMK ने 24 सीटों, कांग्रेस ने 8 और अन्य पार्टियों के साथ  संयुक्त प्रोग्रेसिव अलायंस (UPA) कर चुनाव लड़ा था. इस UPA अलायंस ने प्रदेश की 39 में से 38 सीटें जीती थी वहीं एक सीट पर AIADMK को जीत मिली थी. इस चुनाव में बीजेपी को शून्य सीटें मिली थी. 

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

हालांकि इस बार की लड़ाई थोड़ी टक्कर वाली मानी जा रही है. प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष अन्नामलाई ने हाल के वर्षों में पार्टी को मजबूत बनाने के लिए काम किया और इसी के बाल पर कई सीटें जीतने का दावा भी कर रहे है. वैसे ओपिनियन पोल और सर्वे में भी तमिलनाडु में बीजेपी के लिए वोटों के मामले में फायदा मिलने की बात कही जा रही थी हालांकि ये वोट सीटों में बदल पाएगा इसकी संभावना बहुत कम ही है. 

पश्चिम बंगाल की तीन सीटों पर किसे मिली थी जीत? 

पहले फेज में बंगाल की तीन सीटों कूचबिहार, जलपाईगुड़ी और अलीपुरद्वार के लिए मतदान हुए. कूचबिहार में 81.46 फीसदी, जलपाईगुड़ी में 82.15 फीसदी और अलीपुरद्वार में 77.84 फीसदी मतदान हुआ. बता दें कि, पिछले लोकसभा चुनाव में कूचबिहार 84.08, अलीपुरद्वार में 83.79 और जलपाईगुड़ी में 86.51 फीसदी मतदान हुआ था. यानी इस बार के चुनाव में कम वोट पड़े है. वैसे 2019 के चुनाव में इन तीनों सीटों पर बीजेपी का कब्जा रहा था. अब कम वोटिंग होने के बाद ये देखना दिलचस्प होगा कि, इस बार किसे जीत मिलेगी क्योंकि माना ये जाता है कि, ज्यादा वोट पड़ने पर बीजेपी को फायदा होता है जो इस बार नहीं हुआ है. 

बिहार की चार सीटों पर किसने मारी थी बाजी? 

लोकसभा चुनाव 2024 के पहले चरण में बिहार की चार सीटों औरंगाबाद, गया, नवादा और जमुई में मतदान हुए. औरंगाबाद में 51.56 फीसदी, गया में 49.51 फीसदी, नवादा में 43.79 फीसदी और जमुई में 51.02 फीसदी मतदान हुआ. यानी पहले फेज में कुल 46.32 फीसदी मतदान हुआ जो 21 राज्यों मने हुए मतदान में सबसे कम है. वैसे आपको बता दें कि, 2019 के चुनवा में औरंगाबाद से बीजेपी के सुशील कुमार सिंह, गया से जदयू के विजय कुमार मांझी, नवादा से लोजपा के चंदन सिंह और जमुई (SC) से चिराग पासवान ने जीत दर्ज की थी. यानी इन चारों सीटों पर बीजेपी और NDA गठबंधन को जीत मिली थी. 
 

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT