बिहार में पार्टी समेत कांग्रेस में आए पप्पू यादव, कौन हैं ये, इनके आने से INDIA को क्या फायदा?

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

newstak
social share
google news

Pappu Yadav: पिछले दिनों बिहार में हुए कई उलटफेरों के बाद अब एक नया उलटफेर देखने को मिल रहा है. बीते दिन तेजस्वी यादव और आज लालू प्रसाद यादव से मुलाकात के बाद जन अधिकार पार्टी के सुप्रीमो पप्पू यादव अपने बेटे सार्थक यादव के साथ कांग्रेस में शामिल हुए और उन्होंने अपनी पार्टी का विलय कांग्रेस में कर दिया है. यानी पप्पू यादव भी अब विपक्षी INDIA अलायंस के हिस्सा बन गए हैं. 

दिलचस्प बात ये रही कि, अपनी पार्टी के कांग्रेस में विलय करने से पहले पप्पू यादव ये बात कही कि, उनका एकमात्र लक्ष्य बीजेपी को रोकना है. लोकसभा चुनाव से पहले बिहार में ये नई सांठ गांठ बीजेपी और NDA के लिए जरूर थोड़ी चिंता की बात है. वैसे ये बात पहले से ही चल रही थी कि, पप्पू यादव पूर्णिया से लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं. अब कांग्रेस में विलय के साथ ही ये लगभग कन्फर्म हो गया है कि, इस बार के लोकसभा चुनाव में वो कांग्रेस के टिकट पर पूर्णिया से उम्मीदवार होंगे. 

पप्पू यादव का बिहार के सीमांचल, कोसी और मिथिलांचल में बहुत प्रभाव माना जाता है. साथ ही वो मधेपुरा से और उनकी पत्नी सुपौल से लोकसभा सांसद भी रह चुकी हैं. कांग्रेस में आने के बाद पप्पू यादव ने कहा कि, वो INDIA गठबंधन की मजबूती और सीमांचल, कोसी, मिथिलांचल में 100 फीसदी सफलता के लक्ष्य के साथ पार्टी से जुड़े हैं. 

लालू यादव और तेजस्वी ने पप्पू यादव की कराई INDIA ने इंट्री 

 पप्पू यादव ने कल तेजस्वी यादव और आज लालू प्रसाद यादव मुलाकात थी. इन दोनों से अपनी मुलाकात की तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए पप्पू यादव ने लिखा कि, पारिवारिक माहौल में मुलाकात हुई है. साथ ही मिलकर बिहार में बीजेपी को जीरो पर आउट करने की रणनीति पर चर्चा हुई. उन्होंने लिखा, हमारा लक्ष्य बिहार में INDIA गठबंधन की मजबूती और सीमांचल, कोसी और मिथिलांचल में 100 फीसदी सफलता है. 

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

एक बार विधायक, 5 बार सांसद रहें पप्पू यादव

राजेश रंजन जिन्हें पप्पू यादव के नाम से जाना जाता है. उनका जन्म बिहार के पूर्णिया में 24 दिसंबर 1967 में हुआ था. पप्पू यादव ने साल 1990 में पहली बार विधानसभा का चुनाव जीता उसके बाद से उन्होंने काभी पीछे मुड़ के नहीं देखा. 1991, 1996, 1999, 2004 और 2014 में मोदी लहर के बाद भी पप्पू यादव ने लोकसभा का चुनाव जीता. हालांकि 2019 के चुनाव में उन्होंने मधेपुरा से चुनाव लड़ा था लेकिन जीत नहीं पाए. पप्पू यादव पहले तो लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल(RJD) में ही थे फिर साल 2015 में उन्होंने RJD से अलग होकर अपनी जन अधिकार पार्टी बनाई. 

पत्नी भी हैं कांग्रेस से राज्यसभा सांसद 

पप्पू यादव की पत्नी रंजीता रंजन कांग्रेस पार्टी की ओर से 2014 के लोकसभा चुनावों में सुपौल सीट से अपने प्रतिद्वंद्वी दिलेश्वर कामैत को लगभग 60000 वोटों से हराया और लोकसभा में पहुंचीं. बाद में कांग्रेस ने उन्हें राज्यसभा में भेज दिया.  कांग्रेस ने उन्हें छत्तीसगढ़ से राज्यसभा भेजा था. रंजीता रंजन ने तब सुर्खियां बंटोरी थी जब साल 2016 में महिला दिवस पर वह अपनी हार्ले डेविडसन बाइक से संसद आईं थीं. 

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT