पटना में विपक्ष की रैली में पत्रकारों संग हुआ दुर्व्यवहार, फोन-पर्स तक छीने गए

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

INDIA bloc leaders during the 'Jan Vishwas Maha Rally' at Patna's Gandhi Maidan on Sunday. (Photo: X/@RahulGandhi)
social share
google news

Mahagathbandhan Rally: बीते रविवार यानी तीन मार्च को पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में महागठबंधन ने रैली आयोजित की थी. INDIA अलायंस एक तमाम नेता राहुल गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे, अखिलेश यादव, लालू प्रसाद यादव और तेजस्वी यादव मौजूद रहे. अलायंस की इस रैली में भारी भीड़ उमड़ी थी.  हालांकि इस रैली को कवर करने वाले कई पत्रकारों ने आरोप लगाया है कि, कुछ लोगों के एक समूह ने उनके मोबाइल फोन, वॉलेट और माइक्रोफोन छीन लिए. 

क्या हुआ था?

पत्रकारों ने दावा किया हैं कि, कार्यक्रम के लिए प्रवेश पास रखने वाले पत्रकार मंच के सामने बनी मीडिया गैलरी में थे. मीडिया गैलरी के पीछे रैली के लिए बड़ी संख्या में लोग जमा थे. महागठबंधन की 'जन विश्वास महारैली' के दौरान जब तेजस्वी यादव को मंच पर बुलाया गया तब गांधी मैदान में खचाखच भरी भीड़ जयकार कर रही थी तभी अचानक भीड़ ने सुरक्षाकर्मियों को धक्का दिया और मीडिया गैलरी में घुस गई जिन्होंने पत्रकारों के मोबाइल फोन, वॉलेट और माइक्रोफोन गायब कर दिए. 

बीजेपी ने राजद को घेरा 

इस पूरे मामले पर बीजेपी नेता निखिल आनंद ने रैली के दौरान पत्रकारों के साथ कथित मारपीट की आलोचना की हैं. उन्होंने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर ये आरोप लगाया कि, उन्होंने ही पत्रकारों पर हमला करने के लिए 'मीडिया और राजद कार्यकर्ताओं के खिलाफ बोला' जिसके बाद पत्रकारों पर हमले हुए.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

प्रदेश सरकार की है विफलता: राजद 

वहीं दूसरी ओर राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने प्रदेश की नीतीश सरकार पर इसका ठीकरा फोड़ते हुए इंडिया टुडे से कहा कि, ऐसी घटनाएं 'प्रशासनिक विफलता' का परिणाम थीं क्योंकि प्रदेश सरकार ने भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पर्याप्त इंतजाम नहीं किए थे. तिवारी ने ये भी आरोप लगाया कि, प्रदेश प्रशासन महागठबंधन की रैली को बाधित करने के लिए नियोजित उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई करने में विफल रहा. 

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT