देश का मिजाज सर्वे: देश के इतने फीसदी लोगों ने माना राम मंदिर बनना पीएम मोदी की लोकप्रियता की वजह

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

newstak
social share
google news

Mood of The Nation: लोकसभा चुनाव से पहले देश का मिजाज जानने के लिए इंडिया टुडे ने ‘मूड ऑफ द नेशन'(MOTN) सर्वे किया है. सर्वे में आगामी चुनाव में कौन मरेगा बाजी और किसकी होगी हार, प्रधानमंत्री के लिए कौन है सूटेबल कैंडिडेट जैसे कई सवालों का जवाब तलाशने की कोशिश की गई है.इन्हीं सवालों में से एक सवाल ये भी पूछा गया कि, पीएम मोदी की लोकप्रियता के पीछे उनके वो कौन से काम है? इस सवाल का जवाब काफी इंटरेस्टिंग देखने को मिल है. आइए आपको बताते हैं पीएम मोदी की लोकप्रियता पर क्या है देश की जनता का मिजाज.

वैसे आपको बता दें कि, इंडिया टुडे ने यह सर्वे C- वोटर के साथ मिलकर किया है. सर्वे में पूरे देश के 35801 लोगों के रिस्पांस शामिल किया गया है. उन्हीं से मिले जवाबों के आधार पर यह डाटा तैयार किया गया है.

कौन सी ऐसी वजहें है जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि को लोकप्रिय बनाती है?

पीएम मोदी को लोकप्रिय बनाने के पीछे की वजहों को देश की जनता ने बताया है, जिसके आंकड़ें निम्नलिखित है-

सर्वे में शामिल पांच फीसदी लोगों का मानना है कि, भ्रष्टाचार पर रोकथाम पीएम मोदी की लोकप्रियता का प्रमुख वजह है.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

6 फीसदी लोगों का मानना है Covid-19 का उचित प्रबंधन से.

6 फीसदी अन्य लोगों का मानना है देश में नोटबंदी से पीएम मोदी की लोकप्रियता बढ़ी है.

ADVERTISEMENT

नौ फीसदी लोगों का मानना है कि, पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक से प्रधानमंत्री की छवि लोकप्रिय हुई.

ADVERTISEMENT

12 फीसदी लोगों का मानना है कि, कश्मीर से आर्टिकल 370 को रद्द करना पीएम मोदी की लोकप्रियता की वजह है.

19 फीसदी लोगों का मानना है कि, वैश्विक स्तर पर भारत की छवि में जो बदलाव हुआ है, भारत की अध्यक्षता में G-20 का आयोजन होना पीएम की छवि के लोकप्रिय होने की वजह है.

सबसे दिलचस्प आंकड़ा ये है कि, सर्वे में शामिल 42 फीसदी लोगों का मानना है कि, अयोध्या में सालों के इंतजार के बाद बने राम मंदिर से पीएम मोदी की लोकप्रियता में वृद्धि हुई है.

इस आंकड़े से साफ है कि, प्रधानमंत्री की लोकप्रियता का सबसे प्रमुख वजह अयोध्या में राम मंदिर का बनना है. सर्वे में शामिल लगभग आधे लोगों का यही मानना है. वैसे इसका असर निश्चित तौर पर आगामी लोकसभा चुनाव में भी देखने को मिल सकता है. हालांकि ये तो इलेक्शन के नतीजे आने के बाद ही पता चल पाएगा.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT