नायब सिंह सैनी बने हरियाणा के 19वें मुख्यमंत्री, जानिए इनकी कहानी

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

Nayab Singh Saini
BJP leaders congratulating Naib Singh Saini on being elected CM
social share
google news

Naib Singh Saini: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के सीएम पद से इस्तीफे के बाद अब राज्य के नए मुख्यमंत्री का ऐलान हो गया. कुरुक्षेत्र से बीजेपी सांसद नायब सिंह सैनी को मनोहर लाल खट्टर और हरियाणा प्रभारी बिप्लब देव की उपस्थिति में विधायक दल का नेता चुना गया. नायब सिंह सैनी ने हरियाणा के मुख्यमंत्री के तौर पर जो 12 मार्च यानी आज शाम 5 बजे सीएम पद की शपथ ले ली. आज सुबह मनोहर लाल खट्टर सहित पूरे हरियाणा मंत्रिमंडल ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया. बीजेपी की खट्टर सरकार में सीएम खट्टर सहित 14 मंत्री और उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के नेतृत्व वाली जेजेपी के तीन सदस्य शामिल थे. अब सीएम के शपथ गहरण के बाद प्रदेश में नए सिरे से मंत्रिमंडल का भी गठन किया जाएगा. 

बीजेपी ने नायब सिंह सैनी को जबसे सीएम घोषित किया है तभी से उन्हें लेकर काफी चर्चा चल रही है. आइए आपको बताते हैं आखिर कौन हैं नायब सिंह सैनी जिन्होंने आज हरियाणा के 19वें मुख्यमंत्री के तौर पर ली शपथ.  

कौन हैं नायब सिंह सैनी?

नायब सिंह सैनी 54 साल के हैं और वर्तमान में हरियाणा के कुरुक्षेत्र से सांसद हैं. वो प्रदेश में OBC के एक प्रमुख चेहरा है.सैनी को पिछले साल हरियाणा बीजेपी का अध्यक्ष बनाया गया था. नायब सिंह सैनी ने साल 1996 में बीजेपी में शामिल हुए और पार्टी के संगठन में विभिन्न पदों पर काम किया. वे बीजेपी में शामिल होने से पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(RSS) के सदस्य भी रहें. सैनी साल 2002 में अंबाला में भाजपा यूथ विंग के जिला महासचिव के रूप में कार्य किया फिर साल 2005 में अंबाला के बीजेपी जिला अध्यक्ष बने. 

2014 में सैनी की हुई मुख्यधारा की सियासत में इंट्री   

नायब सिंह सैनी को बीजेपी ने साल 2014 के हरियाणा विधानसभा चुनाव में नारायणगढ़ सीट से उम्मीदवार बनाया था. तब सैनी ने अपने प्रतिद्वंदी को 24 हजार वोटों से हराया था. यही से नायब सिंह सैनी का कद बड़ा हो गया और उन्होंने फिर काभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. 2014 में विधायक बनने के बाद वो साल 2016 में हरियाणा सरकार में मंत्री बन गए. फिर जब साल 2019 में देश में लोकसभा चुनाव होने थे तब बीजेपी आलाकमान ने उन्हें कुरुक्षेत्र सीट से पार्टी का उम्मीदवार बनाया जहां वो विजयी हुए. इस चुनाव में  सैनी ने अपने प्रतिद्वंदी कांग्रेस के उम्मीदवार को तीन लाख चौरासी हजार वोटों से हराया था. 

यह भी पढ़ें...

सैनी, हरियाणा के पूर्व सीएम मनोहर लाल खट्टर के भरोसेमंद सहयोगी के रूप में जाने जाते है. सैनी 2014 में विधायक बनने के बाद से हरियाणा की राजनीति में लगातार सक्रिय हैं. सियासी पंडितों का ये मानना है कि, देश में लोकसभा चुनाव और फिर हरियाणा में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सियासी समीकरणों को साधने हुए बीजेपी ने उन्हें प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया है. वैसे खट्टर भी यही चाहते थे कि, उन्हीं के खेमे के किसी साथी के हाथों में प्रदेश की सत्ता आए और ऐसा हुआ भी.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT