कोचिंग हब के नाम से मशहूर कोटा में हैं कई धार्मिक स्थल, जरूर जाएं घूमने

News Tak Desk

ADVERTISEMENT

newstak
social share
google news

 

राजस्थान राज्य में स्थित कोटा शहर सिर्फ पढ़ाई के लिए ही नहीं, बल्कि अपने प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों के लिए भी बेहद मशहूर है. आज हम आपको इस आर्टिकल में यहां के कुछ ऐसे धार्मिक स्थलों के बारे में बताएंगे, जिनकी देश-विदेश में ख्याति है.  

 

            आपको बता दें कि कोटा शहर राजस्थान की राजधानी जयपुर से करीब 240 किलोमीटर दूर है और यह चंबल नदी के तट पर बसा हुआ है. तो आइए जानते हैं कोटा के कुछ प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में-

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

  • खड़े गणेश जी का मंदिर

खड़े गणेश जी का मंदिर कोटा में चंबल नदी के पास स्थित है. यह मंदिर पूरे भारत में गणेश भगवान की अद्वितीय खड़ी मूर्ति के लिए प्रसिद्ध है. आपको बता दें, यह मूर्ति लगभग 600 साल से भी अधिक पुरानी है, जिनका दर्शन करने के लिए हर साल लाखों तीर्थयात्री आते हैं. वहीं, मंदिर के पास एक झील है जिसके आसपास कई मोरों की मौजूदगी इस स्थान को और भी आकर्षित बनाती है. अपने लंबे और दिलचस्प इतिहास के साथ-साथ अपनी अनूठी वास्तुकला के कारण इस मंदिर को व्यापक रूप से कोटा के शीर्ष पर्यटन स्थलों में से एक माना जाता है.

  • गरड़िया महादेव मंदिर 

कोटा के दौलतगंज इलाके में स्थित गरड़िया महादेव मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक लोकप्रिय शिव मंदिर हैं. आपको बता दें, 500 फीट की ऊंचाई पर स्थित गरड़िया महादेव मंदिर कोटा में घूमने के लिए अनोखे और शानदार पर्यटन स्थलों में से एक है. विशाल प्राकृतिक सुंदरता के साथ, चारों ओर फैले हरे मैदानों के दृश्य और चंबल नदी के किनारे यह स्थान इस क्षेत्र के सबसे खूबसूरत पिकनिक स्थलों में से एक है. इस मंदिर को देखने के लिए दुनिया भर के पर्यटक यहां आते हैं. 

ADVERTISEMENT

  • गोदावरी धाम मंदिर  

कोटा के दादाबाड़ी में स्थित गोदावरी धाम मंदिर भगवान हनुमान को समर्पित है. संगमरमर से बना ये खूबसूरत मंदिर कोटा में चंबल नदी के तट पर स्थित है. आपको बता दें, हनुमान जी के इस मंदिर में मंगलवार और शनिवार को एक विशेष आरती सुबह और आधी रात को की जाती हैं. इस आरती में शामिल होने के लिए हजारों की संख्या में भक्तगण दूर-दूर से यहां आते हैं. इसके अलावा मंदिर में भगवान शिव, भगवान गणपति, भैरव जी महराज आदि की मूर्तियां सहित अन्य देवी-देवताओं की मूर्तियां भी स्थापित हैं. 

ADVERTISEMENT

  • शिवपुरी धाम मंदिर

शिवपुरी धाम कोटा का सबसे प्राचीन और अनोखा मंदिर है. आपको बता दें, भगवान शिव को समर्पित इस मंदिर में लगभग 525 शिवलिंग स्थापित हैं. मंदिर में स्थापित शिवलिंगों के मध्य में भगवान पशुपति नाथ जी की एक विशाल मूर्ति बनी हुई है, जो कि बेहद लोकप्रिय है. इस स्थान पर साल भर तीर्थयात्रियों, भक्तजनों और पर्यटकों का तांता लगा रहता है. जानकारी के मुताबिक, महाशिवरात्रि के दौरान यहां मेले का बहुत बड़ा आयोजन किया जाता है.

 

कैसे पहुंचे कोटा?

 

राजस्थान राज्य में स्थित कोटा देश के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह कनेक्टेड है. यहां पहुंचने के लिए आप फ्लाइट, ट्रेन और बस में से किसी का भी चुनाव अपनी सुविधानुसार कर सकते हैं.

  • फ्लाइट से- यहां का निकटतम हवाई अड्डा जयपुर का सांगानेर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है, जो कि कोटा से लगभग 245 किलोमीटर की दूरी पर है. इस हवाई अड्डे से आप बस या कैब के द्वारा कोटा पहुंच सकते हैं.
  • ट्रेन से- यहां का नजदीकी रेलवे स्टेशन कोटा रेलवे जंक्शन है, जो कि दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग पर स्थित है. आपको बता दें, सुपरफास्ट और राजधानी जैसी एक्सप्रेस ट्रेनें नियमित रूप से दिल्ली और मुंबई से कोटा पहुंचती हैं.
  • सड़क मार्ग से- बता दें, कोटा शहर सड़क मार्ग के द्वारा भारत के अन्य प्रमुख शहरों से बहुत अच्छी तरह से कनेक्टेड है. ऐसे में आप बस या निजी कार के माध्यम से यहां पहुंच सकते हैं.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT