केरल ब्लास्ट की जिम्मेदारी लेने वाला डोमिनिक मार्टिन कौन है, ‘यहोवा विटनेस ईसाई’ समुदाय से उसे कैसी खुन्नस?

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

Dominic Martin, केरल ब्लास्ट न्यूज
Dominic Martin, केरल ब्लास्ट न्यूज
social share
google news

Kerala Blast: रविवार को केरल के कोच्चि में सीरियल ब्लास्ट हुए. ये ब्लास्ट एक ईसाई धार्मिक सभा में किए गए, जिसमें दो महिलाओं की मौत हुई, कई लोग घायल हैं. धमाकों के कुछ घंटे बाद ही डोमिनिक मार्टिन नाम के शख्स ने इनकी जिम्मेदारी ले ली. उसने त्रिशूर ज़िले के कोडकारा पुलिस स्टेशन में सरेंडर कर दिया. सरेंडर से पहले मार्टिन ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट भी किया. वीडियो में मार्टिन ने बताया है कि उसने धमाका क्यों किया.

कौन है डोमिनिक मार्टिन?

डोमिनिक मार्टिन कोच्चि का रहने वाला है. उसने बताया कि ईसाई समुदाय की सभा के पास उसने तीन बम लगाए थे. मार्टिन ने कथित तौर पर जिस ‘यहोवा विटनेस (साक्षी) ईसाई’ समुदाय की सभा पर हमला किया, वह खुद भी कभी उसी का हिस्सा था. मार्टिन के मुताबिक वह 16 साल तक यहोवा के साक्षी ईसाई धार्मिक संगठन का हिस्सा रहा है. उसे 6 साल पहले एहसास हुआ कि संगठन सही नहीं है. उसने यह भी कहा कि मैंने कई बार संगठन को अपनी शिक्षाओं को सही करने बोला था, लेकिन वे ऐसा करने को तैयार नहीं थे. डोमिनिक ने यह क़दम इसलिए उठाया क्योंकि उसे लगता है कि यहोवा के साक्षी की शिक्षाएं ‘देशद्रोही’ हैं.

यहोवा विटनेस ईसाई समुदाय क्या है?

आपको बता दें कि यहोवा के साक्षी ईसाई समूह की स्थापना 19वीं शताब्दी में अमेरिका में हुई थी. यह समुदाय 1985 में तब चर्चा में आया जब इसके अनुयायी तीन बच्चों को केरल में स्कूल से निष्कासित किया गया. इन बच्चों पर राष्ट्रगान के दौरीन खामोश रहकर कथित तौर पर उसके अपमान के आरोप थे. हालांकि बाद में सुप्रीम कोर्ट से इन बच्चों को राहत मिली.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

एजेंसियों की रिपोर्ट के मुताबिक इस समुदाय को इंटरनेशनल बाइबल स्टूडेंट्स एसोसिएशन की शाखा माना जाता है. इसकी स्थापना 1872 में चार्ल्स टाजे रशेल ने पिट्सबर्ग में की थी. मुख्य धारा के ईसाई संप्रदायों की तरह ‘यहोवा के साक्षी’ पवित्र त्रितत्व (ईश्वर, पिता; ईश्वर, पुत्र-यीशु;ईश्वर पवित्र आत्मा) को नहीं मानते. ये यहोवा को ‘बाइबल के ईश्वर और सभी के सृजनकर्ता’के तौर पर पूजा करते हैं. इस समूह के अनुयायी ईसा मसीह को ईश्वर का पुत्र मानते हैं, न कि स्वयं उन्हें ईश्वर. वे ईसा मसीह के शिक्षण और उनके द्वारा स्थापित उदाहरण से सीखते हैं, इसलिए वे स्वयं को ईसाई मानते हैं.

फिलहाल केरल पुलिस के साथ नेशनल इंवेस्टिगेटिव एजेंसी (एनआईए) भी इस सीरियल ब्लास्ट की जांच कर रही है. डोमिनिक मार्टिन से जुड़े सारे एंगल खंगाले जा रहे हैं.

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT