पश्चिम बंगाल में सिख IPS को ‘खालिस्तानी’ कहने पर बवाल, ममता बनर्जी ने BJP पर बोला हमला

ADVERTISEMENT

newstak
social share
google news

West Bengal Sikh IPS news: पश्चिम बंगाल में संदेशखाली मामले को लेकर चल रहे विवाद के बीच एक सिख IPS अधिकारी और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेताओं-कार्यकर्ताओं की भिड़ंत का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है. इस वीडियो में पगड़ीधारी सिख पुलिस अधिकारी आरोप लगा रहे हैं कि बीजेपी वालों ने उन्हें खालिस्तानी कहा. IPS अधिकारी इस बात पर बिफरे हुए नजर आ रहे हैं कि पगड़ी पहनने की वजह से उन्हें खालिस्तानी कहा गया. वैसे बीजेपी नेता इस आरोप से इनकार कर रहे हैं. इस बीच संदेशखाली में कथित यौन हिंसा के आरोपों पर बीजेपी के निशाने पर रहीं ममता बनर्जी को इस मामले ने पलटवार का एक मौका दे दिया है.

ममता बनर्जी ने इस वीडियो को एक्स (पहले ट्विटर) पर पोस्ट करते हुए लिखा है कि, ‘आज बीजेपी की विभाजनकारी राजनीति ने बेशर्मी से संवैधानिक सीमाओं को भी लांघ दिया. बीजेपी वालों के लिए पगड़ी पहनने वाला हर शख्स खालिस्तानी है.’

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

वीडियो में क्या है?

ममता बनर्जी ने जो वीडियो पोस्ट किया है उसमें वो हिस्सा नहीं है जहां IPS अधिकारी को खालिस्तानी कहा गया. इस वीडियो में IPS अधिकारी कह रहे हैं कि क्योंकि मैंने पगड़ी पहनी है इसलिए आप मुझे खालिस्तानी कह रहे हैं. वह कह रहे हैं कि इस बात पर वह कार्रवाई करेंगे. वह कह रहे हैं, ‘अगर मैंने पगड़ी नहीं पहनी होती, तो आप मुझे बोलते खालिस्तानी? आप मेरे धर्म पर नहीं बोल सकते. आपके धर्म पर नहीं बोल रहा मैं. अगर कोई पुलिसवाला पगड़ी पहना है, तो वह खालिस्तानी है?’

BJP ने कहा- ध्यान भटकाने की कोशिश

इस बीच, भाजपा नेता अग्निमित्रा पॉल ने ममता बनर्जी पर “संदेशखाली घटना से ध्यान भटकाने की कोशिश” करने का आरोप लगाया है. आपको बता दें कि कई महिलाओं द्वारा तृणमूल नेता शाहजहां शेख और उनके समर्थकों पर जबरदस्ती जमीन हड़पने और यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाने के बाद संदेशखाली को लेकर पिछले दो हफ्तों से बंगाल में बवाल मचा हुआ है.

ADVERTISEMENT

अग्निमित्रा पॉल ने कहा, “किसी ने किसी को खालिस्तानी नहीं कहा. अगर ममता बनर्जी के पास कोई सबूत है, तो वह वीडियो सामने लाएं. पश्चिम बंगाल पुलिस टीएमसी की कठपुतली के अलावा कुछ नहीं है. यहां मुद्दा संदेशखाली की महिलाएं, उनके साथ बलात्कार और अत्याचार है. उनका उत्पीड़न करने वाला शाहजहां शेख अभी भी फरार है और ममता बनर्जी के संरक्षण का आनंद ले रहा है. उन्हें संदेशखाली से ध्यान हटाने की कोशिश बंद करनी चाहिए और शाहजहां शेख को तुरंत गिरफ्तार करना चाहिए. बंगाल पुलिस को पुलिसिंग पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए न कि राजनीति पर.”

ADVERTISEMENT

आपको बता दें कि पुलिस से बीजपी नेताओं यह टकराव तब हुआ जब पुलिस ने भाजपा नेता सुवेंदु अधिकारी को उत्तर 24 परगना जिले के अशांत संदेशखाली का दौरा करने से रोक दिया. वीडियो में सुवेंदु अधिकारी के साथ मौजूद बीजेपी विधायक अग्निमित्रा पॉल धमाखली में पुलिस अधिकारी के साथ बहस करती नजर आ रही हैं.

कौन हैं ये IPS पुलिस अधिकारी?

वीडियो में दिख रहे पुलिस अधिकारी 2016 बैच के आईपीएस अधिकारी जसप्रीत सिंह हैं. सिंह वर्तमान में पश्चिम बंगाल पुलिस में विशेष अधीक्षक (खुफिया ब्यूरो) के पद पर तैनात हैं. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को भाजपा की आलोचना की और कहा कि पार्टी की ‘विभाजनकारी राजनीति ने बेशर्मी से संवैधानिक सीमाओं को लांघ दिया है.’

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह ‘हमारे सिख भाइयों और बहनों की प्रतिष्ठा को कमजोर करने के प्रयास’ की निंदा करती हैं. ममता बनर्जी ने एक्स पर लिखा, “आज, बीजेपी की विभाजनकारी राजनीति ने संवैधानिक सीमाओं को बेशर्मी से लांघ दिया है. बीजेपी के अनुसार, पगड़ी पहनने वाला हर व्यक्ति खालिस्तानी है.’ ममता बनर्जी ने कहा कि वह सिख भाइयों-बहनों की प्रतिष्ठा को कमजोर करने वाले इस प्रयास की निंदा करती हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि बंगाल में सामाजिक सौहार्द को तोड़ने की किसी भी कोशिश के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT