‘मर जाना पसंद’, ‘दरवाजे बंद’… पलटने की चर्चाओं के बीच नीतीश, अमित शाह के पुराने वीडियो वायरल

अभिषेक गुप्ता

ADVERTISEMENT

Nitish Kumar, Amit Shah
Nitish Kumar, Amit Shah
social share
google news

Bihar Political Crisis: बिहार में सियासी हलचल तेज है. CM नीतीश कुमार के फिर पलटी मारकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के साथ मिलकर सरकार बनाने की चर्चाएं हैं. लोगों का मानना है कि बस अब कुछ वक्त की बात और है, बिहार में लालू नीतीश का महागठबंधन टूट जायेगा. कहा जा रहा है कि शुक्रवार को लालू ने नीतीश से पांच बार बात करनी चाही लेकिन सीएम तैयार नहीं हुए. कुछ सूत्र ये भी कह रहे हैं कि लालू खेमे ने भी तेजस्वी को सीएम बनाने के लिए गुणा गणित तेज कर दिया है. बिहार में सत्ता तक पहुंचने के लिए 122 विधायक चाहिए. लालू, कांग्रेस और लेफ्ट की संख्या 114 की है. बीजेपी कह रही है कि कांग्रेस के 10 विधायक उसके संपर्क में हैं. कुल मिलाकर बिहार में तमाम सियासी थियरी चल रही हैं. इस बीच नीतीश कुमार और गृह मंत्री अमित शाह के दो पुराने वीडियो वायरल हैं.

पहला वीडियो अमित शाह का है. 2 अप्रैल 2023 को बिहार के नवादा में एक रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा था कि नीतीश कुमार के लिए बीजेपी के दरवाजे हमेशा के लिए बंद हो चुके हैं. अब लोग इस वीडियो को खूब शेयर कर रहे हैं. ये वीडियो बीजेपी के यूट्यूब चैनल पर भी मौजूद है.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

दूसरा वीडियो खुद नीतीश कुमार का है. जनवरी 2023 में नीतीश कुमार ने कहा था कि उन्हें मर जाना कबूल है लेकिन बीजेपी के साथ अब नहीं जाएंगे. इस वीडियो को भी लोग अब वायरल कर रहे हैं.

ADVERTISEMENT

अब सियासत में कुछ भी मुमकिन है तो पुराने बयानों की परवाह किसे? ऐसे में आइए आपको बताते हैं कि आखिर बिहार में अभी चल क्या रहा है.

ADVERTISEMENT

28 को पलट जायेंगे नीतीश कुमार?

सूत्रों के मुताबिक नीतीश कुमार 28 जनवरी को बिहार में जनता दल (यूनाइटेड) और बीजेपी सरकार के मुख्यमंत्री के तौर पर पद की शपथ ले सकते हैं. बीजेपी के दिग्गज नेता सुशील मोदी के नए उपमुख्यमंत्री बनने की संभावना है. सुशील मोदी ने भी राजनीति को “संभावनाओं का खेल” बताते हुए कहा कि “जो दरवाजे बंद हैं वे खुल सकते हैं. इस बीच, राजद ने नीतीश कुमार से कहा है कि वो चीजें साफ करें. भाजपा के शीर्ष सूत्रों ने बताया है कि पार्टी नेतृत्व ने पटना इकाई को आदेश दिया है कि बिहार में सरकार गठन का फॉर्मूला प्रस्तावित करने में कोई जल्दबाजी नहीं की जानी चाहिए. सूत्रों ने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव विनोद तावड़े की मौजूदगी में कल से शुरू होने वाली दो दिवसीय कार्यकारिणी बैठक के बाद निर्णय होने की संभावना है. उनके शनिवार को पटना पहुंचने की उम्मीद है.

राजद ने विधायकों की बुलाई मीटिंग

बीजेपी और जदयू की के बीच गठबंधन की चर्चाओं के बीच लालू यादव की राजद ने भी अपने विधायकों की बैठक बुलाई है. राजद विधायकों की बैठक 27 जनवरी को 1 बजे होनी है. बताया ये जा रहा है कि, तेजस्वी यादव फिलहाल अपने कोटे के मंत्रियों के साथ चर्चा कर रहे हैं. वहीं लालू यादव इस रणनीति पर काम कर रहे हैं कि, नीतीश किसी भी हाल में बीजेपी के साथ सरकार न बना पाएं. लालू यादव आर या पार के मूड में हैं. उन्होंने नीतीश कुमार से गठबंधन पर संशय दूर करने को कहा है. इसी कवायद में राज्यसभा सांसद मनोज झा के जरिए नीतीश के लिए अपील भी कराई गई.

कुल मिलाकर देखें तो बिहार की सियासत के लिए अगले कुछ घंटे काफी अहम हैं. अगर नीतीश बीजेपी के खेमे में जाते हैं तो यह कांग्रेस के नेतृत्व में बने विपक्ष के INDIA गठबंधन के लिए बड़ा झटका होगा.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT